रविवार, 30 जून 2013

गम हर किसी को मिला है, इस जिन्दगी मे ,
दर्द के दायरे से बाहर, निकल कर तो देखो।
कब तक कैद रहोगे, तन्हाई की जंजीरों मे ,
आजाद फ़िजा मे तुम सांसे, लेकर तो देखो।
ग़म औरो की जिन्दगी मे भी, कम नही है,
इक नजर दुनिया पर भी, डाल कर तो देखो।
इन्सान की हर चाहत पुरी हो, जरुरी तो नही ,
अपनो के दर्द को तुम भी, समझकर तो देखो। [अधीर]

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ. भावपूर्ण.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति .....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी.बेह्तरीन अभिव्यक्ति!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं