शुक्रवार, 19 अप्रैल 2013

यहाँ कब कौन, किसका हुआ है ,

यहाँ कब कौन, किसका हुआ है ,
इंसान जरुरत से, बंधा हुआ है ।

मेरे ख्वाबो मे ही, आते है बस वो,
पाना उनको, सपना बना हुआ है।

सुनो,पत्थर दिलो की बस्ती है ये,
तु क्यों मोम सा, बना हुआ है ।

खुदगर्ज है लोग, इस दुनिया मे,
कौन किसका, सहारा हुआ है ।

कहने को तो बस, अपने ही है वो,
दिलासा शब्दो का, बना हुआ है ।

लोहा होता तो, पिघलता शायद,
इंसान पत्थर का, बना हुआ है।

जीतने का ख्वाब, देखा नही कभी,
हारने का, बहाना एक बना हुआ है ।

नही होता अब, यकिन किसी पर ,
इंसान तो जैसे, हवा बना हुआ है।

लगाके गले, वो परायो को शायद,
अंजान अपनो से ही, बना हुआ है।

छोङो मेरे दर्दे-ए-दिल की फिक्र तुम,
ठोकर खाकर "अधीर" संभला हुआ है । { अधीर }

22 टिप्‍पणियां:

  1. लोहा होता तो, पिघलता शायद,
    इंसान पत्थर का, बना हुआ है।
    वाह...बेहतरीन अभिव्यक्ति... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोहा होता तो, पिघलता शायद,
    इंसान पत्थर का, बना हुआ है।

    बहुत उम्दा अभिव्यक्ति,सुंदर गजल ,,,
    RECENT POST : प्यार में दर्द है,

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर सार्थक गहन अनुभूति की रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 21/04/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. लगाके गले, वो परायो को शायद,
    अंजान अपनो से ही, बना हुआ है।

    शानदार शेर कहा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीतने का ख्वाब, देखा नही कभी,
    हारने का, बहाना एक बना हुआ है..
    -----------
    बहुत सुन्दर लिखा आपने ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. नही होता अब, यकिन किसी पर ,
    इंसान तो जैसे, हवा बना हुआ है।
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं